भारत के प्रमुख बंदरगाह

Website worth
http://fkrt.it/DvnHdTuuuN

एक बंदरगाह, एक तट या किनारे पर एक स्थान होता है, जिसमें एक या अधिक बंदरगाह समाविष्ट होते हैं, जहां जहाज़ लोगों या नौभार को ज़मीन से या तक डॉक और हस्तान्तरित कर सकते है। बंदरगाहस्थान,

वाणिज्यिक मांग और हवा एंव लहरों से शरण के लिए, भूमि और नौगम्य पानी के अधिगम को उपयुक्त बनाने के लिए चयनित किये जाते हैं। गहरे पानी वाले बंदरगाह कम हैं, लेकिन बड़े, अधिक किफायती जहाज़ संभाल सकते हैं। चूँकि, पूरे इतिहास में बंदरगाहों ने प्रत्येक प्रकार का यातायात संभाला है, इसलिए समर्थन और भंडारण सुविधाएं व्यापक रूप से भिन्न हैं, यह मीलों के लिए विस्तृत किये हो सकते हैं और स्थानीय अर्थव्यवस्था पर हावी होते हैं। कुछ बंदरगाहों की एक महत्वपूर्ण, संभवतः विशेष रूप से सामरिक भूमिका है।

बंदरगाह प्रकार

शब्द “बंदरगाह” और “समुद्रबंदरगाह” सागर-चलन जहाजों को संभालने वाली अलग अलग प्रकार की बंदरगाह सुविधाओं के लिए इस्तेमाल किये जाते हैं और नदी बंदरगाह नौकाओं और अन्य कम गहरे-ड्राफ्ट जहाजों जैसे नदी यातायात के लिए इस्तेमाल किया जाता है। एक झील, नदी, या नहर पर कुछबंदरगाहों की पहुँच एक समुद्र या सागर तक है और कभी कभी इन्हें “अंतर्देशीय बंदरगाह” कहा जाता है।

एक मछली पकड़ने का बंदरगाह (फिशिंग पोर्ट), मछली वितरण और अवतरण के लिए एक बंदरगाह याहार्बर की सुविधा है। यह एक मनोरंजक सुविधा हो सकती है, लेकिन आमतौर पर यह वाणिज्यिक है। एक मछली पकड़ने का बंदरगाह (फिशिंग पोर्ट) ही एक मात्र ऐसा बंदरगाह है जो एक सागर उत्पाद पर निर्भर करता है और मछलियों की कमी एक मछली पकड़ने वाले बंदरगाह (फिशिंग पोर्ट) के अमितव्ययी होने का कारण बन सकती है। हाल के दशकों में, मछली पकड़ने के भंडार की रक्षा करने के नियम मछली पकड़ने के बंदरगाह (फिशिंग पोर्ट) का उपयोग सीमित कर सकते हैं, संभवतः उन्हें प्रभावी ढंग से बंद करते हुए.

एक “शुष्क बंदरगाह” एक ऐसा शब्द है जो कभी कभी आधानों या पारंपरिक अधिकांश नौभार को स्थान देने के लिए उपयोग होने वाले यार्ड का वर्णन करने के लिए प्रयोग किया जाता है, यह अक्सर रेल या सड़क मार्ग द्वारा एक समुद्रबंदरगाह से जुडा होता है।

एक गर्म पानी बंदरगाह वह है जहां सर्दियों के समय में पानी जमता नहीं है। क्योंकि वे पूरे वर्ष उपलब्ध होते हैं, इसलिए गर्म पानी बंदरगाह महान भू-राजनीतिक या आर्थिक हित के हो सकते हैं।

एक समुद्रबंदरगाह इसके आगे एक “क्रूज़ बंदरगाह” या एक “कार्गो बंदरगाह” के रूप में वर्गीकृत है। इसके अतिरिक्त, “क्रूज बंदरगाहों” को एक “होम बंदरगाह” या “कॉल का बंदरगाह” भी कहा जाता है। “कार्गो बंदरगाह” इसके आगे एक “बल्क” या “ब्रेक बल्क बंदरगाह” या एक “कंटेनर बंदरगाह” के रूप में भी वर्गीकृत किया जाता है।

एक क्रूज होम बंदरगाह वह बंदरगाह है जहां क्रूज-जहाज़ यात्री अपनी समुद्री यात्रा को प्रारंभ करने के लिए सवार (या सम्मिलित) होते हैं और अपनी समुद्री यात्रा के ख़त्म होने पर क्रूज-जहाज़ से उतरते (याउतारने लगते) हैं। ये वह भी है जहां समुद्री यात्रा के लिए क्रूज जहाज़ की आपूर्ति भरी जाती है, जिसमें ताज़े पानी और ईंधन से ले कर फल, सब्जी, शैंपेन और समुद्री यात्रा के लिए आवश्यक सभी अन्य आपूर्तियां शामिल हैं। दिन के दौरान जब क्रूज जहाज बंदरगाह में होता है तब “क्रूज होम बंदरगाह” एक बहुत ही व्यस्त स्थान होता है, क्योंकि सभी आपूर्तियों को लादने के अलावा जाने-वाले यात्री अपना सामान उतारते हैं और आने-वाले यात्री जहाज़ पर सवार होते हैं। वर्तमान में, विश्व की क्रूज राजधानीफ्लोरिडा का मियामी का बंदरगाह है, जिसके तुरंत बाद पोर्ट इवरग्लेड्ज़, फ्लोरिडा और सेन जान का बंदरगाह, पुएर्टो रिको आते हैं।

कॉल का बंदरगाह, अपने जलयात्रा मार्ग पर एक जहाज़ के लिए एक मध्यवर्ती स्टाप है, जिसमें आधा दर्जन बंदरगाह शामिल हो सकते हैं। इन बंदरगाहों पर, एक मालवाहक जहाज ईंधन या आपूर्तियां ले सकता हैं और साथ ही नौभार को लादने और उतारने का काम भी कर सकता है। लेकिन एक क्रूज-जहाज़ के लिए, उनका प्रमुख स्टाप वह है जहां क्रूज लाइन यात्रियों को अपनी छुट्टी का आनंद लेने के लिए ले जाती हैं।

दूसरी ओर कार्गो बंदरगाह, क्रूज बंदरगाहों से काफी अलग हैं, क्योंकि प्रत्येक बहुत ही अलग नौभार संभालता है, जिसे काफी अलग यांत्रिक तरीकों द्वारा लादना और उतारना होता है। बंदरगाह एक विशेष प्रकार का नौभार संभाल सकता है या कई नौभार संभाल सकता है, जैसे अनाज, तरल ईंधन, तरल रसायन, लकड़ी, मोटर वाहन, आदि. ऐसे बंदरगाहों को “बल्क” या “ब्रेक बल्क बंदरगाह” के रूप में जाना जाता है। वह बंदरगाह जो कंटेनरीकृत नौभार संभालते हैं, वह कंटेनर बंदरगाहों के रूप में जाने जाते हैं। अधिकांश कार्गो बंदरगाह सभी तरह का नौभार संभालते हैं, लेकिन कौन सा नौभार संभालना है इस बात को लेकर कुछ बंदरगाह बहुत विशिष्ट होते हैं। इसके अतिरिक्त, निजी कार्गो बंदरगाह विभिन्न ऑपरेटिंग टर्मिनलों में विभाजित हैं, जो अलग अलग नौभार संभालते हैं और विभिन्न कंपनियों द्वारा संचालित है, यह टर्मिनल ऑपरेटर या स्टीवडोर्स के नाम से भी जाने जाते हैं।

भारत के प्रमुख बंदरगाह (India’s Major Ports in Hindi)

भारत के तटवर्ती इलाकों में 13 बड़े बंदरगाह और 200 छोटे बंदरगाह हैं। बड़े बंदरगाह केंद्र सरकार और छोटे बंदरगाह राज्‍य सरकारों के अंतर्गत आते हैं।

देश में स्‍थित 13 बड़े बंदरगाह पूर्वी और पश्‍चिमी तटों पर समान रूप से बनाए गए हैं। कोलकाता, पारादीप, विशाखापत्तनम, हल्दिया,चेन्‍नई, एन्‍नोर और तूतीकोरिन बंदरगाह भारत के पूर्वी तट पर स्‍थित हैं, जबकि कोचीन, मंगलौर, मोरमुगाओ, मुंबई, न्हावाशेवा पर जवाहरलाल नेहरू और कांडला बंदरगाह पश्‍चिमी तट पर स्‍थित हैं।

भारत के प्रमुख बंदरगाह –

नाम नदी/समुद्र राज्य/के.शा.प्र.
मुंबई अरबसागर महाराष्ट्र
पारादीप बंगाल की खाड़ी आंद्रप्रदेश, ओडिशा
चेन्नई बंगाल की खाड़ी तमिलनाडु
विशाखापट्टनम बंगाल की खाड़ी आन्ध्र प्रदेश
कांडला कच्छ की खाड़ी गुजरात
मुर्मुगाव अरबसागर गोवा
जवाहरलालनेहरु अरबसागर महाराष्ट्र
कोचीन अरब सागर केरल
इन्नौर बंगाल की खाड़ी तमिलनाडु
हल्दिया कोलकाता-हुगलीनदी पशिम बंगाल
न्यू तूतीकोरिन बंगाल की खाड़ी तमिलनाडु
न्यू मंगलोर अरब सागर कर्नाटक
पोर्टब्लेयर बंगाल की खाड़ी अंडमान निकोबार द्वीप समूह

 

पश्चिमी तट के 6 बंदरगाह  याद करने की शॉर्टकट ट्रिक्स| Major ports in India with sortcut tricks

शॉर्टकट ट्रिक्स: कान्हा मामा मंगनी को मुंबई गऐ

ट्रिकी वर्ड    बंदरगाह      राज्य
का              कांडला     गुजरात
न्हा          न्हावाशोवा     महाराष्ट्र
मामा         मार्मागोवा     गोवा
मंगनी          मंगलौर     कर्नाटक
को               कोचीन     केरल
मुंबई             मुंबई     महाराष्ट्र

शॉर्टकट ट्रिक्स:  पूर्वी तट के 7 बंदरगाह याद करने की शॉर्टकट ट्रिक्स  | Major ports in India with sortcut tricks

Tricks :ए विशाखा तु चेन्नई से पारा और हल्दी कोल्कत्ता ला

ट्रिकी वर्ड                बंदरगाह     राज्य
ए                           एन्नौर     तमिलनाडु
विशाखा                 विशाखापट्टनम     आन्ध्र-प्रदेश
तु                           तुतीकोरन     तमिलनाडु
चेन्नई                        चेन्नई     तमिलनाडु
पारा                        पाराद्धीप     ओडिशा
हल्दी                       हल्दिया     पश्चिम बंगाल
कोलकाता              कोलकाता     पश्चिम बंगाल

 

बंदरगाहों से संबंधित अन्य तथ्य –

 

 

भारत में 13 बड़े तथा 200 से अधिक छोटे बंदरगाह है हम यह कुछ प्रमुख बंदरगाह के बारे में जानकारी दे रहे है –

 

1.मुंबई बंदरगाह

  • यह एक प्राकृतिक बंदरगाह है जो मुंबई में स्थित है।
  • इसे भारत का प्रवेश द्वार कहा जाता है।  यह अन्य बंदरगाहों की अपेक्षा अधिक विस्तृत है।
  • इस बंदरगाह की क्षमता लगभग 200 टन से अधिक है।
  • भारत का सर्वाधिक व्यापार इसी बंदरगाह से होता है।
  • पश्चिमी तट का सबसे बड़ा प्राकृतिक बंदरगाह।
  • सर्वाधिक आयात करने वाला बंदरगाह (भारत का 20% व्यापार यही से)।

 

2.न्हावाशेवा बंदरगाह (जवाहरलाल नेहरू)

  • यह मुंबई बंदरगाह के निकट ही स्थित है इसका निर्माण मुंबई बंदरगाह का दबाव कम करने के लिए किया गया।
  • न्हावाशेवा बंदरगाह देश सबसे आधुनिक एवं सर्वसुविधायुक्त बंदरगाह है,
  • शुष्क सामाग्री के व्यापार हेतु प्रसिद्ध।

 

3.कांडला बंदरगाह

  • यह गुजरात राज्य की कच्छ की खाड़ी में स्थित ज्वारीय बंदरगाह है।
  • इसके निकट के राज्यों में खनिज तेल, सीमेंट, रसायन, सूती वस्त्र इत्यादि औद्योगो का विकास होने से इसका महत्व बढ़ गया है।
  • इस बंदरगाह से भारी मात्रा में कपास, सूती वस्त्र, उर्वरक,कच्चा तेल, पोटास, फास्फेट, नमक आदि का निर्यात किया जाता है।

 

4.मर्मागोवा बंदरगाह

  • यह गोवा राज्य में अरब सागर के तट पर स्थित प्राकृतिक बंदरगाह हैं ।

 

5.न्यू मंगलौर बंदरगाह

  • न्यू मंगलौर बंदरगाह कर्नाटक राज्य के समुद्र तट पर स्थित है।
  • इस बंदरगाह से कद्रमुख की खान से निकला लौह अयस्क निर्यात किया जाता है ।

 

6.कोच्चि बंदरगाह

  • यह केरल राज्य में स्थित एक प्राकृतिक बंदरगाह है जिसमें बड़े जहाज भी ठहर सकते हैं।
  • कोच्चि बंदरगाह भारत के पश्चिमी तट का सर्वश्रेष्ठ बंदरगाह माना गया है।
  • चाय, कॉफी व मसालों के निर्यात के लिये प्रसिद्ध।

 

7.कोलकाता बंदरगाह

  • यह पश्चिम बंगाल में हुगली नदी के किनारे स्थित कृत्रिम बंदरगाह है।
  • यह पूर्वी तट का सबसे बड़ा तथा भारत का दूसरा बड़ा बंदरगाह है।
  • कोलकाता बंदरगाह के दक्षिण मेंहल्दिया बंदरगाह को विकसित किया गया है ।

8.हल्दिया

  • कलकत्ता बंदरगाह के दक्षिण में हुगली नदी पर कलकत्ता के भार को कम करने हेतु बनाया गया।
  • यहां तेलशोधन कारखाना भी हैं।

 

9.विशाखापत्तनम बंदरगाह

  • यह बंदरगाह देश के पूर्वी तट पर आंध्र प्रदेश के महानगर विशाखापत्तनम में स्थित है ।
  • यह एक प्राकृतिक एवं गहरा बंदरगाह है।भारत का सबसे गहरा बंदरगाह
  • यह जहाजों का निर्माण एवं मरम्मत की जाती है।
  • यह बंदरगाह अपने कार्यों की गुणवत्ता एवं उत्पादकता के लिए प्रसिद्ध है।

 

10.चेन्नई बंदरगाह

  • भारत के तमिलनाडु राज्य में स्थित यह एक कृत्रिम बंदरगाह है ।
  • भारत का दूसरा सबसे बड़ा यातायात घनत्व वाला बंदरगाह और भारत का सबसे पुराना कृत्रिम बंदरगाह।
  • एन्नौर बंदरगाहको चेन्नई बंदरगाह का दबाव कम करने के लिए विकसित किया गया है।

 

11.पाराद्वीप बंदरगाह

  • यह भारत के पूर्वी तट के किनारे उड़ीसा राज्य में स्थित है।
  • यह कोलकाता तथा विशाखापत्तनम बंदरगाह के लगभग बीच में स्थित प्राकृतिक संरचना का बंदरगाह है।
  • इस बंदरगाह से उड़ीसा एवं बिहार के खनिजों का निर्यात किया जाता है तथा मशीनें,उर्वरक,गंधक, इंजीनियरिंग सामान आयत किए जाते हैं।

 

12.तूतीकोरन बंदरगाह

  • यह बंदरगाह तमिलनाडु राज्य के दक्षिणी छोर पर स्थित है।
  • यहां से नमक,मछली, सीमेंट,लिग्नाइट, तम्बाकू, चावल आदि निर्यात किया जाता है एवं मशीनें,उर्वरक,सूती वस्त्र इत्यादि वस्तुओं का आयात होता है।

13.पोर्ट ब्लेयर

  • अंडमान निकोबार।
  • 2010 में तेरहवें बंदरगाह के रूप में मान्यता

 

About freecivilexam 659 Articles
1.myself suraj pratap Pursuing J.R.F(Junior Research Fellowship) PhD and my facebook page link:- https://www.facebook.com/tgtpgthigher/ 2.this is the group for ias/pcs/other competitive exams hope you like and share in facebook account or twitter/ whatsapp. 3.My aim is to work innovatively for the enhancement and betterment of education. I aspire to work for an institution like my website which offers career growth and chances to learn and improve my knowledge. 4.if you want to read the content in english than click-translate than click hindi language(हिन्दी) than(after convert in hindi) click english language(अंग्रेजी)..ok suraj pratap

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*